तूफ़ान-ए-तुर्क में रूपया बेहाल

टर्की और अमरीका के बीच शुरू हुई यह आंधी भारत तक पहुँची कैसे? भारतीय सरकार और रिज़र्व बैंक रुपये में आयी गिरावट से उभरने के लिए कितने सक्षम है ?

मिलिट्री-जिहादी कॉम्प्लेक्स: पाकिस्तान का दूसरा चेहरा

नवजोत सिंह सिद्धू की झप्पी ने बड़ा बवाल उठा दिया भारत में | तो इस बार की पुलियाबाज़ी पाकिस्तान के मिलिट्री-जिहादी कॉम्प्लेक्स पर | ऐसा क्यों कि भारत-पाकिस्तान के रिश्ते सुधारने की कोई कोशिश के शुरू होते ही आतंकवादी हमले उस प्रक्रिया को विफल कर देते हैं?

आज़ाद भारत का रिपोर्ट कार्ड

पुलियाबाज़ी के इस Independence Day Special अंक में प्रस्तुत है हमारे दृष्टिकोण से आज़ादी का लेखा-जोखा | कौनसी चुनौतियों को हमने हराया है और कौनसी मुश्किलों से हम आज भी जूझ रहे है, इन प्रश्नों पर सुनिए एक चर्चा |

एक डॉक्टर और

भारत में हर 1668 लोगों के लिए सिर्फ एक डॉक्टर है । इस अभाव के बावजूद मेडिकल कॉलेजों में सीटें इस साल घटा देने का कारण क्या है? राज्य और केंद्र सरकार क्या कर सकती हैं अच्छे डॉक्टरों की संख्या में इज़ाफ़ा करने के लिए, जानिए इस एपिसोड में।

तारीख़ पे तारीख़

हमारे न्यायतंत्र की ढ़िलाई से शायद हर इंसान वाक़िफ़ है | तो पुलियाबाज़ी के इस अंक में हमने ग़ोता लगाया इस ढ़िलाई के कारणों को समझने में, सूर्य प्रकाश के साथ|

जो मेरा है, क्या वो सच में मेरा है?

Property Rights का भारत में एक पेचीदा इतिहास है | यह एक ऐसा अधिकार है जिसके बिना बाकी सारे संवैधानिक अधिकार बेअसर हो जाते है | इसके बावजूद हमने बार-बार प्रॉपर्टी पर अधिकार को बलि पर चढ़ाया है, जिसका खामियाज़ा हम आज तक भुगत रहे है | तो इस बार की पुलियाबाज़ी प्रॉपर्टी के अधिकार पर | इस विषय को सुलझाने के लिए हमने बात की श्रुति राजगोपालन से, जो स्टेट यूनिवर्सिटी न्यूयॉर्क में अर्थशास्त्र पढ़ाती है और क्लासिकल लिबरल इंस्टिट्यूट में फेलो है |

चीन, एक खोज – भाग 2

कहने के लिए तो चीन हमारा पडोसी देश है पर वास्तव में हम चीन के बारे में बहुत कम जानते है | इस जानकारी के अभाव के कारण लोग या तो चीन की तरक्की से मंत्रमुग्ध हो जाते है या फिर उसे एक जानी दुश्मन का दर्जा दे देते है | यह दोनों दृष्टिकोण हमें चीन की असलियत से और दूर ले जाते है | तो चीन को कुछ गहराई से समझने के लिए हमने बात की मनोज केवलरमानी से |

चीन, एक खोज – भाग 1

चीन को कुछ गहराई से समझने के लिए हमने बात की मनोज केवलरमानी से, जो तक्षशिला इंस्टीटूशन में भारत-चीन संबंधों पर काम करते है |

युवा भारत क्या चाहता है?

पुलियाबाज़ी के इस एपिसोड में सौरभ और प्रणय ने बात की पत्रकार और लेखक स्निग्धा पूनम से – जिनकी नयी किताब “Dreamers: How Young Indians are Changing the World” भारत के कुछ महत्वाकांक्षी युवक-युवतियों की ज़िन्दगी पर प्रकाश डालती है |

भारत और अफ़ग़ानिस्तान: काबुलीवाला से तालिबान तक

क्या एक R&AW अफसर की जिंदगी “टाइगर” के सलमान जैसी होती है? तालिबान की बर्बरतापूर्ण सरकार को अफ़ग़ानिस्तान से हटाने में भारत का क्या योगदान था? पाकिस्तान तालिबान को किस तरह समर्थन देता है?

सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में

राहत इंदौरी के शब्दों में – ‘सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में, किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है’| पिछले ७-८ सालों में आयी जेनेटिक क्रांति राहत इंदौरी के इस कथन का प्रमाण दे रही है | और इसलिए हमने पुलियाबाज़ी के इस अंक में डेविड राइख की किताब ‘Who We Are and How We Got Here’ के भारत पर आधारित अध्याय पर चर्चा की | इस एपिसोड में जानिये क्यूँ हर भारतीय का ९००० साल पहले ईरान से आये हुए लोगों से एक अटूट रिश्ता है, और क्यूँ हर भारतीय आख़िर एक फॉरेनर है !

भारत को इनोवेटिव कैसे बनाये

पुलियाबाज़ी के इस अंक में हमने बात की वरुण अग्रवाल से, जिन्होंने उनकी नयी किताब “Leading Science and Technology: India Next?” में भारत के रिसर्च इकोसिस्टम का विश्लेषण किया है |

बिटकॉइन – एक क्रांतिकारी सोच

ऐसा क्या है बिटकॉइन में कि इस व्यवस्था ने सब सरकारों को चौकन्ना रहने पर मजबूर कर दिया है ? जानिये पुलियाबाज़ी के इस अंक में नीलेश त्रिवेदी से, जो इंडियम नामक ब्लॉकचेन डेवलपर कम्युनिटी से जुडे हुए है |

आज उधार, कल नकद

भारत में किफ़ायती क्रेडिट का आख़िर इतना अभाव क्यों है? हर ‘मदर इंडिया’ जैसी कहानी में एक सुखीलाला को क्यों होता है? जानिये इस एपिसोड में प्रिया शर्मा से, जो क्रेडिट पर आधारित एक स्टार्ट-अप की सीएफओ है |

मसला-ए-जम्मू कश्मीर

७० साल बाद भी कश्मीर का मुद्दा सुलझता क्यों नहीं? सुनिए इस पेचीदा मामले पर एक बेबाक चर्चा हमारे नये एपिसोड में |

Budget बेवफा!

बजट पर इतना बावलापन क्यों? अगर आप बजट बनाते तो क्या नया करते? सुनिये कुछ विचार पुलियाबाज़ी के इस एपिसोड में।

Yeh Ai Ai Kya Hai?

What’s the big deal about Artificial Intelligence? How is it going to change our world? Two engineering geeks set out to explain it all in simple language. This is episode 1 of Puliya Baazi, a new podcast hosted by Pranay Kotasthane and Saurabh Chandra.