Podcast PuliyaBaazi

लश्कर-ए-तय्यबा: कब, क्यूँ, और कैसे

This is Episode 30 of PuliyaBaazi, a fortnightly podcast hosted by Pranay Kotasthane and Saurabh Chandra.

26 नवंबर 2008, मुंबई की दर्दनाक तस्वीरें आज भी दिल दहला देती हैं | इस हमले को अंजाम दिया था पाकिस्तान सेना के पसंदीदा आतंकवादी गुट – लश्कर-ए-तैयबा ने | इस हादसे के 11 साल बाद भी, हम कम ही जानते है कि यह संगठन शुरू कैसे हुआ, किस मक़सद से हुआ, और इसके हथकंडे क्या है | तो हमने की पुलियाबाज़ी प्रॉफ़ेसर क्रिस्टीन फेयर से, जिन्होंने हाल ही में इस संगठन पर एक किताब ‘In Their Own Words: Understanding the Lashkar-e-Tayyaba’ लिखी है | फेयर जार्जटाउन यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रॉफेसर है और पाकिस्तान सेना पर किये गए अपने उल्लेखनीय शोधकार्य के लिए जानी जाती है | उनसे हमने इस आतंकवादी गुट एक संगठन के रूप में समझने के लिए यह सवाल सामने रखे:

  1. हर संगठन का एक vision, mission statement होता है – LeT का क्या है?
  2. इस संगठन की शुरुआत कब और कैसे हुई?
  3. इसके sponsor/shareholders कौन है?
  4. इसमें भर्ती (recruitment) कहाँ से और कैसे होती है? क्यों नौजवान इस करियर को चुनते है?
  5. इस संगठन का समाज में वजूद क्या है?
  6. इस संगठन को कैसे निपटाया जाए? क्या पाकिस्तान में ऐसी ताकतें हैं जो इस तरह के संगठनो का ख़ात्मा करना चाहती हैं?

In this episode, we explore one of the most important nodes of the Pakistani military-jihadi complex: the Lashkar-e-Tayyaba (LeT). Our guest for this episode is Prof Christine Fair, a renowned voice on Pakistan security issues. In her latest book In Their Own Words: Understanding the Lashkar-e-Tayyaba, Dr Fair reveals finer details about LeT using publications produced and disseminated by Dar-ul-Andlus, the publishing wing of LeT.

In this Puliyabaazi, we investigate LeT using organisation theory. What are their vision and mission statements? What keeps them together? How do they recruit employees? Who are their shareholders? And finally, what will it take to end this organisation? Listen in for an in-depth discussion on these questions.

सुनिए और बताइये कैसा लगा यह एपिसोड आपको |

If you have any comments or questions please write to us at [email protected]

You can follow Puliyabaazi on Itunes, Stitcher, TuneIn, Castbox, Audioboom and Youtube.

Please share

About the author

Pragati Staff

Pragati Staff is the best staff ever. I mean, we've seen a lot of staff, and let us tell you this, this is THE BEST. Haters will hate. SAD.